Sunday, September 2, 2018

अछि नींद के लिए क्या करे अछि नींद आने के उपाय क्या है

एकाग्रता और उर्जा सबके लिए महत्वपूर्ण है कई तरह के शोध यहाँ बताते है की नीद की कमी लम्बे समय में आपके स्वास्थ पर पूरा प्रभाव डालती है | एक अमेरिकन अकादमी ने अपने शोध में यहाँ जानने की कोशिस कि की किस तरह से कम नीद हमें प्रभावित करती है | यहाँ प्रभाव हर एक इंसान पर अलग –अलग पड़ता है , 
Source - Google 

लेकिन मोटे तोर पर काम करने की इक्छा में कमी और एकाग्रता का आभाव लगभग सभी में पाया गया है | कुछ ने तो यहाँ भी बताया की हेंगओवर तो फिर भी मेनेज किया जा सकता है लेकिन कम नीद ज्यादा बुरी तरह से प्रभवित करतीहै 

अलग –अलग अध्ययन यहाँ बताते है की कम नीद अवसाद की एक बड़ी वजह है रात को कम सोने से अगला दिन बहुत ही मुश्किल होता है हम इसके लिए कई –कई हथकंडे अपनाते है , फिर भी शरीर हमें लगातार यहाँ याद दिलाता रहता है कि कुछ कम है जिसे पूरा करना होगा |

कम नीद या फिर क्वालिटी ऑफ स्पील का पुअर होने की कई वजहे हो सकती है |

हम आपको बताते है की आछी नीद के लिए आपको क्या –क्या करना चाहिए |   

सोने से पहले नहाएं

सोने से पहले यदि नहा ले, तब ही नींद आने में सहयता मिलतीं है हम सब जानते है की
नहाने से बहुत बेतर फिल होता है |अपना बचपन याद करे , केसे नहाने के बाद आपको गहरी
नींद आया करती थी | इसका एक वैज्ञानिक कारण है | की आपके शरीर का तापमान आपकी
नींद पर असर करता है गुनगुने पानी से नहाना हमेशा बेहतर होता है | 

ठन्डे पानी से नहाना

जादा लाभकारी होता है | लेकिन रात के समय जब तापमान कम हो जाता है एकदम ठंडा
पानी आपके स्वास्थ को नुकसान भी पोहुचा सकता है इसलिये गुनगुने पानी से नहाना जादा
अच्छा होता है | फिर देखिए आपको नीद केसी आती है |’’’’’’’’’””

केफिन से दूर रहे, चीनी लें

केफीन  नीद की दुस्मन है | इसलिये शाम के 4 बजे बाद कोशिश करे की
केफिन न ले | शहद को आछी नींद के लिये आछा मन जाता है | साथ ही
सोने से पहले एक चम्मच शहद लेने से सुबह उठने पर उर्जा बनी रहती है |
आप माने या न माने, आपका दिमाग भरपुर ऊर्जा का इस्तेमाल करता है, 
इसलिए आराम करने के दौरान थोड़ी-सी चीनी उसके काम करने की गति को बेहतर करता है! शहद ऊर्जा के बेहतरीन स्त्रोत है और यह नींद में भी आपके दिमाग को सक्रिय बनाये रखता है तथा सुभ आपको ऊर्जा से लबरेज रखता है!

नींद को न सोचे : 

हमे अक्सर सोने का विचार तनाव देता है! खास तौर पर जब हमें किसी वजह से सुभ जल्दी उठाना होता है! भोत स४ए लोग सो न पाने के दबाव में रहते है, इनमे इनसोम्निया के मरीज भी होते है! तनाव डॉ व् चिंता भी नींद में व्यवधानन पैदा क्ररता है!

नीली रोशनी से दूर रहें

यदि आपको सोते –सोते तक मोबाइल –फोन चैक करने की अददत है ,तो जान ले
कि यहाँ आपकी नींद में व्यवधान का बड़ा कारण है |न जरा इमानदारी से बताएं
क्या आप अपना फोन या सेल फोन आपने पास रखकर  ही सोते है ? तो फिर
कहा जा सकता है की मोबाईल फोन की रौशनि आपकी नींद में देरी का एक बड़ा
कारण है इसलिय बेहतर होगा की आप सोने से पहले अपने फोन को बंद कर दें |,
या फिर उसे एरोप्लेन मोड में रखे या केसे ड्रावर में या फिरे किसी दुसरे कमरे में
रखें ताकि नीदं में व्यवधान न हो \ यदि आप एफ्रोर्ड कर सकते है तो एक आनुशासन बनाएं की सोने के समय से एक घंटे पहले से ही आप आपना फोन
को इस्तमाल नही करेगे | जरा ऐसा करखे देखें | आप स्वयं पाएंगे की इससे
आपको ,जल्दी नींद आने में काफी सुविधा होगी| ?
सोने से पहले
आपने बचपन को याद करे | केसे आपकी माँ आपको सोने के लिये आपको पहले
तैयारी करवाती थी | बिस्तर को साफ करती , हाथ –पैर थुलवती, कपड़े बदलवती,
ब्रश करने के बाद आपको समय पर सोने के लिये कहती |
आज आप आपने सोने के रूटीन को देखें | क्या आप सोने के लिए समय पर चले
जाते है? क्या आप नींद में जाने से पहले मोबाइल -फोन या फिर लेपटाप या टेबलेट या टीवी L.C.D , L.E.D देखना छोड़ते है नहीं न ....... तो फिर आपको समय पर नींद केसे आएगी??.....
नींद का सीधा सा फाड़ा है उसका एक तय समय है, आप हर दिन उसी समय पर सोने चाले जाएगें तो चीजें आसान होगी | आरामदायक और ढीले –ढाले कपड़े पहने, टीवी, चेट, सर्फिंग और हर दिन के तनाव को आपने बेड-रूम से बहार छोड़े
और सोने चले चले जाएँ |
x
Previous Post
Next Post

About Author

0 comments: